Skip to main content

हर चीज़ का सदुपयोग करें | महात्मा बुद्ध का उपदेश

यह उस समय की बात है, जब महात्मा बुद्ध के शिष्यों की मंडलियाँ अलग – अलग विहारों में रहा करती थी । उनके भोजनादि अन्य साधनों की देख – रेख स्वयं बुद्ध करते थे । एक दिन तथागत के एक शिष्य के वस्त्र पुराने होकर फट गये । वह तथागत के पास गया और सकुचाते […]

Read More

आत्म शक्ति का स्त्रोत क्या है | एक रोचक कहानी

शायद यह प्रश्न आपके दिमाग में अवश्य आया होगा कि “आत्मशक्ति का स्त्रोत क्या है ?” या “हमारे अन्दर किसी काम को करने की शक्ति कहाँ से आती है ?” कंफ्यूज मत होना, यहाँ शक्ति और आत्मशक्ति से हमारा मलतब एक ही है ।   अगर इसका सरल शब्दों में जवाब दिया जाये तो “आत्मा […]

Read More

किंग आर्थर के आत्मविश्वास की कहानी

एक बार की बात है । इंग्लैंड का राजा मर गया । चारों ओर नया राजा बनाने के चर्चे चल रहे थे । लेकिन उत्तराधिकारी के रूप में किसी योग्य व्यक्ति को ही चुना जा सकता था । जो कि एक विकट समस्या थी । क्योंकि हर कोई व्यक्ति राजा बनने के लिए तैयार था […]

Read More

महर्षि चरक का नैतिकता | आदर्शों का महत्त्व

एक बार की बात है । महर्षि चरक औषधियों की खोज में अपने कुछ शिष्यों को लेकर जंगल में घूम रहे थे । तभी अचानक कुछ खेतों से गुजरते हुए उनकी दृष्टि एक अनोखे फुल पर पड़ी । अपने जीवन काल में उन्होंने सैकड़ो फूलों के गुणधर्मों का अध्ययन और अनुसंधान किया था, लेकिन यह […]

Read More

वासनाओं के आकर्षण से कैसे बचे | महर्षि कौत्स और कण्व की कहानी

वासना के आकर्षण के बारे में बात करने से पहले आइये हम जान लेते है कि आखिर वासना है क्या चीज़ ? हालाँकि अहसासों के स्तर पर आप वासना से भली प्रकार परिचित है लेकिन क्योंकि अहसासों को देखा और समझा नहीं जा सकता । इसलिए मैं आपके सामने वासना का एक ऐसा रूप प्रस्तुत […]

Read More

शाश्वत सुख – शांति और सफलता का रहस्य | प्रेरणादायक कहानी

एक बुजुर्ग किसान मनीराम के दो बेटे थे । नाम था संकल्प और विकल्प । जब किसान का अंत समय नजदीक आया तो सोचा संपत्ति का बंटवारा कर जाऊ, वरना बाद में ये दोनों लड़ेंगे । अतः बुजुर्ग किसान ने अपने दोनों बेटों में बराबर संपत्ति का बंटवारा कर दिया । बुजुर्ग किसान जल्द ही […]

Read More

अपना स्वभाव बदले – दो लघुकथाएं

“जैसा आपका स्वभाव होता है, वैसा ही आपका प्रभाव होता है” – इस तथ्य के सत्य को यदि आप परखना चाहते है तो सूक्ष्म दृष्टि से स्वयं का या अपने निकटवर्ती लोगों का अध्ययन करना शुरू कर दीजिये । आप पाएंगे कि यह बात शत प्रतिशत सत्य है । लेकिन कैसे ? आइये जानते है […]

Read More