Skip to main content

एकलव्य की गुरु भक्ति | महाभारत की कहानी

महाभारत में एक प्रसंग आता है कि एक बार गुरु द्रोणाचार्य अपने शिष्यों के साथ जंगल में भ्रमण कर रहे थे । भ्रमण करते – करते उनके साथ आया हुआ एक कुत्ता जंगल में रास्ता भटककर वहाँ पहुँच गया, जहाँ एक काला सा भील बालक एकलव्य धनुर्विद्या का अभ्यास कर रहा था । कुत्ता एक […]

Read More

उत्कृष्ट उद्देश्य – अध्यात्म साधना का तीसरा सिद्धांत

अध्यात्म साधना का तीसरा सिद्धांत हैं – उत्कृष्ट उद्देश्य । आध्यात्मिक साधनायें केवल उन्हीं लोगों की सफल होती हैं । जिनका उद्देश्य ऊँचा हो, जो सामान्य से अलग सोचते हो, जो देश धर्मं और संस्कृति के हित में सोचते हो । जो लोग अपनी कामनाओं और वासनाओं की मांग ईश्वर से करते हैं । वह पूरी ही हो […]

Read More

परिष्कृत व्यक्तित्व – अध्यात्म साधना का दूसरा सिद्धांत

अध्यात्म साधना का दूसरा सिद्धांत है – परिष्कृत व्यक्तिव । आपने देखा होगा हम जब भी किसी नौकरी के लिए आवेदन करते हैं तो लिखित परीक्षा के पश्चात् हमें साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता हैं । क्यों ? क्योंकि हमें काम पर रखने वाला यह देखना चाहता हैं कि जिस काम के लिए हम इस आदमी को चुन रहे हैं […]

Read More

अटूट श्रद्धा – विश्वास और समर्पण – अध्यात्म साधना का पहला सिद्धांत

हममें से अधिकांश शंकालु साधक देवताओं से मिन्नते पूरी कराने के लिए साधना तो करते हैं, किन्तु अपने अंतःकरण में इष्ट और साधना के प्रति श्रृद्धा और विश्वास उत्पन्न नहीं कर पाते । परिणामस्वरूप उनकी साधना कोरा कर्मकाण्ड बनकर रह जाती हैं । मनुष्य के पास श्रृद्धा की ऐसी शक्ति विद्यमान हैं कि वो भौतिक […]

Read More

अध्यात्म का मूल उद्देश्य – आनंद की प्राप्ति

अध्यात्म क्या हैं ? यह जानने से पहले यह जानना जरुरी है कि “ क्या अध्यात्म हमारे लिए आवश्यक है अथवा नहीं ?” हमारे मन की संरचना इस प्रकार की है कि जब तक उसके सामने किसी वस्तु विशेष की महत्ता और उपयोगिता  को सिद्ध नहीं कर दिया जाता, तब तक वह उसे जानने, समझने […]

Read More

अध्यात्म क्या है | आध्यात्मिक चिंतन

अध्यात्म क्या हैं ?  इस विषय पर चर्चा करने से पहले, मैं आपको यह बताना जरुरी समझाता हूँ कि अध्यात्म की जीवन में क्या आवश्यकता हैं ? मित्रों ! अगर हम अपने चारों ओर नजरें  दौड़ाये तो हमें ज्ञात होगा कि आज का इंसान आधुनिकता की ओर कितनी निर्ममता से दौड़ रहा हैं । इस आधुनिक इंसान की आस्थायें इतनी कमज़ोर […]

Read More