पाप का गुरु कौन | प्रेरणाप्रद कहानी - अध्यात्म सागर

पाप का गुरु कौन | प्रेरणाप्रद कहानी

pap ka guru koun ek kahani


किसी समय काशी शिक्षा की नगरी कही जाती थी । लम्बे समय से यह परम्परा रही है कि प्रत्येक बालक जो ब्राह्मण के घर में जन्म लेता था, उसे काशी जाकर वेदादि शास्त्रों का अध्ययन करना होता था । तभी वह कर्मकाण्ड आदि पुरोहिताई के कार्य करने के योग्य होता था ।


एक बार की बात है, एक पंडितजी ने अपने बालक को भी शास्त्रों का अध्यनन के लिए काशी भेजा । सभी शास्त्रों का सांगोपांग अध्ययन करने के बाद बालक अपने गाँव लौटा । अपने विद्वान बालक के आने की ख़ुशी में पंडितजी ने एक भव्य उत्सव का आयोजन करवाया । जिसमें ज्ञान चर्चा का विषय भी रखा गया । उसमें नये पंडितजी को शास्त्रोक्त तरीके से ग्रामवासियों की समस्याओं का समाधान करना था । सभी लोगों ने तरह - तरह के प्रश्न पूछे - लगभग सभी प्रश्नों के जवाब नये पंडितजी ने शास्त्रीय व्याख्याओं से दिए । गाँव वाले बहुत प्रभावित हो हुए ।

इतने में एक बूढा किसान सामने आया और उसने पूछा - " पाप का गुरु कौन ?"

पंडितजी ने अपना दिमाग खूब दौड़ाया लेकिन इसका जवाब उन्हें कहीं नहीं मिला । अंत में पंडित को लगा कि अभी उनका ज्ञान अधुरा है, वह वही से वापस काशी को रवाना हो गये । काशी जाकर उन्होंने अपने सभी गुरुओं से पूछा लेकिन इस प्रश्न का जवाब उन्हें कहीं से नहीं मिला ।


हताश और निराश होकर इस बार पंडित जी अपने अंतिम गुरु के पास गये तो उन्होंने कहा - " वत्स ! इसका जवाब तुझे एक पापी ही दे सकता है कि उसका गुरु कौन है ?

पंडित जी की आँखे आशा से चमक उठी । उन्हें लग रहा था कि अब उनको उनके प्रश्न का उत्तर मिल जायेगा । उन्होंने तुरंत पूछा - " ऐसा पापी कौन है और कहाँ मिलेगा ?"

तो नवीन पंडितजी के गुरुदेव बोले - " मैं तो किसी पापी को नहीं जानता लेकिन एक वैश्या है जिसने सैकड़ों लोगों को पापी बनाया है । वह तुम्हारे इस प्रश्न का जवाब दे सकती है ।"


पंडितजी बिना कोई देर किये वैश्या के घर की ओर रवाना हुए । पंडित जी को आता देख वैश्या ने स्वागत में व्यंग करते हुए कहा - ज्ञान के साधक आज अज्ञान की सेवा में कैसे ?


पंडित जी ने स्वाभिमानपूर्वक कहा - " हे देवी ! मुझे सेवा की कोई आवश्यकता नहीं, केवल अपने एक प्रश्न का उत्तर चाहिए और उसका उत्तर केवल तुम दे सकती हो इसलिए तुम्हारे पास आना पड़ा ।"


मुस्कुराते हुए वैश्या बोली - " पूछिये महाशय ! ऐसा कौनसा प्रश्न है, जिसका जवाब केवल मैं ही दे सकती हूँ !

पंडितजी बोले - " मैं जानना चाहता हूँ कि पाप का गुरु कौन है ?"


वैश्या ठहाका लगाकर हंसी और फिर गंभीर होकर बोली - " महाशय ! इसके लिए आपको कुछ दिन यहाँ रहना पड़ेगा ।" अब पंडितजी इस प्रश्न के उत्तर में पहले ही काफी भटक चुके थे, इसलिए उन्होंने वैश्या की बात मानकर वहाँ रहना स्वीकार कर लिया । लेकिन पंडित जी बोले - " हे देवी ! मैं यहाँ रह तो लूँगा लेकिन खाना - पानी अपने खुद के हाथ का बनाया ही लूँगा ।"


वैश्या बोली - " जी जरुर !"


इस तरह चार दिन बीत गये । प्रतिदिन पंडितजी खाना बनाते और अपनी पेट पूजा करते थे । आखिर परेशान होकर पंडितजी ने वैश्या से पूछ ही लिया – “हे देवी ! मुझे मेरे प्रश्न का जवाब कब मिलेगा ?”

वैश्या बोली – “थोड़ा सब्र रखिये महोदय ! बस एक दिन की ओर बात है ।” उसी दिन पंडितजी का खाने पीने का सामान भी खत्म हो गया । वैश्या का ठिकाना गाँव से काफी दूर था । उसपे भी भयंकर गर्मी और चिलचिलाती धुप देखकर पंडितजी ने सोचा शाम को बाजार जाकर सामान लाऊंगा । सुबह से भूखे पंडितजी अपनी पोथियों के पन्ने पलट रहे थे । तभी अचानक वैश्या का आगमन हुआ ।

वैश्या बोली - " पंडितजी आप अकेले खाना बनाते है कितने परेशान हो जाते है, एक काम कीजिये, कल से नहा - धोकर आपके लिए खाना मैं ही बना दिया करूंगी । इससे मुझे भी आपकी सेवा का कुछ पूण्य मिल जायेगा और भोजन के साथ दक्षिणा में मैं आपको एक सोने की मुहर दूंगी ।


पहले तो पंडितजी ने आनाकानी की किन्तु मुफ्त का खाना और साथ में सोने की मुहर का विचार कर पंडितजी ने वैश्या का प्रस्ताव मान लिया । उसी दिन शाम को वैश्या ने तरह - तरह के पकवान बनाये और पंडितजी की सेवा में उपस्थित हुई । भोजन का थाल पंडितजी के सामने परोसा गया लेकिन जैसे ही पंडितजी ने खाने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया, वैश्या ने थाल पीछे खिंच लिया ।

वैश्या के इस व्यवहार से पंडित जी क्रौधित हो गये और तिलमिलाकर बोले - " ये क्या मजाक है ?"

वैश्या ने विनम्रता पूर्वक कहा - " श्रीमान ! यही आपके प्रश्न का उत्तर है ।"


पंडित जी - " मैं कुछ समझा नहीं ! "

वैश्या ने समझाते हुए कहा " महाशय ! क्या केवल स्नान कर लेने मात्र से कोई पवित्र हो जाता है, क्या मेरी अपवित्रता केवल इतनी ही है जो केवल स्नान करके मिटाई जा सकती है ? नहीं ! लेकिन मुफ्त के भोजन और स्वर्ण मुद्राओं के लोभ में आप अपने वर्षों के नियम को क्षणभर में नष्ट करने के लिए तैयार हो गये । यह लोभ ही पाप का गुरु है श्रीमान !"


पंडितजी को अपना जवाब मिल चूका था ।


शिक्षा – यदि गहनता से अन्वेषण किया जाये तो सभी विकारों का मूल लोभ को कहा जा सकता है । फिर भी सुविधा की दृष्टि से विकारों को पांच प्रकारों में विभाजित किया गया है ।

पाप का गुरु कौन | प्रेरणाप्रद कहानी पाप का गुरु कौन | प्रेरणाप्रद कहानी Reviewed by Adhyatma Sagar on अप्रैल 28, 2018 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.