बिना थके सबसे तेज दौड़ने का तरीका - अध्यात्म सागर

बिना थके सबसे तेज दौड़ने का तरीका

bina thake sbse tej dode

आजकल के साधनों से संपन्न युग में तेज दौड़ने की बात करना, एक तरह से निरर्थक मालूम पड़ता है । परन्तु जिन्हें 1600 मीटर की दुरी तय करके Indian Army में जाना है, जिन्हें किसी दौड़ प्रतियोगिता में भाग लेकर जीतना है, उनके लिए यह दौड़ बहुत ही महत्वपूर्ण है ।

मुझे दौड़ने का बहुत शौक है । हालाँकि मैंने अभी तक अपने दोस्तों को छोड़कर कभी भी किसी प्रतियोगिता में भाग नहीं लिया । हाँ ! इसमें कोई खास बात नहीं कि मुझे दौड़ने का शौक है, बेशक सबको होता है । खास बात यह है कि अधिकांश दौड़ने वाले बहुत जल्दी थक जाते है । कई बार ऐसा होता है कि पैर दर्द करने लगते है, सांसे फुल जाती है, पसीना – पसीना हो जाते है, किन्तु तेज नहीं दौड़ पाते है। लेकिन ऐसा मेरे साथ नहीं होता ।

यदि आप इस प्रकार की समस्या से परेशान है और बिना थके सबसे तेज दौड़ना चाहते है तो मुझे पूरा विश्वास है कि मेरा यह सुझाव आपके लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगा ।

आइये जानते है, क्या है बिना थके तेज दौड़ने का रहस्य

सबसे पहले तो हम कुछ बेसिक बाते जान लेते है जो एक प्रकार की पूर्व तैयारी कही जा सकती है । इसके अंतर्गत हम कुछ बिन्दुओं पर चर्चा करेंगे -

इरादा – यदि आप सबसे तेज दौड़ना चाहते है तो सबसे महत्वपूर्ण है आपका इरादा। यदि आपका पक्का इरादा नहीं है अथवा आप किसी के बहकावे में आकर दौड़ रहे है, तो जीत की उम्मीद बेकार है । आपके इरादे से ही आपके दौड़ की शुरुआत होती है ।

आत्मविश्वास – आत्मविश्वास वह ताकत है जो हमे हिम्मत देती है । आत्मविश्वास ही तय कर देता है कि आपकी जीत होगी या हार । इसलिए हमेशा छोटे – छोटे target achieve करके अपना आत्मविश्वास बढ़ाते रहिये ।

शारीरिक दक्षता – आपका इरादा और आत्मविश्वास तो है किन्तु आप शारीरिक रूप से अक्षम है तो आपकी दौड़ आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकती है । इसलिए कोई भी कठोर शारीरिक परिश्रम करने से पूर्व यह निश्चित होना चाहिए की आप शारीरिक रूप से पूर्ण स्वस्थ है ।

थकान रहित तेज दौड़ने के लिए आपके शरीर और पंजों का लचीला होना बहुत आवश्यक है । आप अपनी शारीरिक दक्षता व लचीलापन नियमित आसन – प्राणायाम और व्यायाम करके बड़ा सकते है । इसके साथ ही नियमित संतुलित और सात्विक भोजन करे ।

प्राण ऊर्जा (Vital Power) यही वह मुख्य शक्ति है जिसकी मैं बात कर रहा हूँ । इसे भारत के योग - अध्यात्म में आत्मशक्ति, प्राण ऊर्जा और चीन में Qigong के नाम से जाना जाता है । आत्मशक्ति ही सभी क्षमताओं की जननी है । इसी की उच्चस्तरीय साधनाओ में कुण्डलिनी जागरण और टेलीकाइनेसिस – टेलीपैथी जैसे प्रयोग आते है ।

आप शारीरिक रूप से शक्तिशाली है अथवा नहीं, कोई फर्क नहीं पड़ता, यदि आपको प्राण उर्जा ( Qigong ) को जाग्रत करके शरीर को प्राणवान बनाना आता है तो आप चट्टानों से भी लड़ सकते है । इसके उदहारण के रूप में आप ब्रूसली को देख सकते है । यदि किसी अनजान व्यक्ति को ब्रूसली फोटो दिखाकर पूछा जाये तो वह उसे हड्डियों का ढांचा ही कहेगा । लेकिन जो ब्रूसली के बारे में जानता है, वह उसे कुंगफू का देवता मानता है । अर्थात पूरा खेल प्राण ऊर्जा के जागृत करने का है । किन्तु प्राण ऊर्जा जाग्रत तभी होगी जब शरीर स्वस्थ होगा । इसलिए शरीर का स्वस्थ होना एक अनिवार्य आवश्यकता है ।
शरीर की स्वस्थता संयमित आहार, विश्राम और व्यायाम पर निर्भर करती है । इसलिए यथासंभव अपना रहन – सहन प्राकृतिक नियमों के अनुरूप बनाने की कोशिश करे । शरीर की स्वस्थता के साथ संयम व प्राणायाम और ध्यान - साधना से आत्मशक्ति का जागरण शुरू हो जाता है ।

बिना थके तेज दौड़ने का रहस्य


बिना थके तेज दौड़ने का रहस्य है – आत्मशक्ति – प्राण उर्जा ( Qigong )। यदि आप आत्मशक्ति का उपयोग करना सिख लेते है तो आपके थकने की सम्भावना सबसे कम होगी । दौड़ने वालों के लिए प्राण उर्जा ( Qigong ) एनर्जी मेडिसिन का काम करती है । जो हर श्वास के साथ शरीर में एक नये उत्साह का संचार करती है, जो शरीर में विद्युत की तरह कार्य करता है । शरीर की तंत्रिकाएं उस आध्यात्मिक उर्जा को नख शिखा पर्यंत ( head to toe ) पहुचाने का कार्य करती है । जिससे पुरे शरीर में प्राण उर्जा ( Qigong ) की लहरे व हिलोरे उठती रहती है । प्राण उर्जा ( Qigong ) से भरे हुए धावक के लिए दौड़, एक प्रकार का नृत्य बन जाती है । वह झूमते हुए दौड़ का आनंद लेता है । उसे ना तो थकान होती है ना ही किसी प्रकार का दर्द ही होता है ।

इसी प्राण ऊर्जा से प्राण चिकित्सा भी की जाती है । जिसके प्रयोग रेकी हीलिंग के रूप में देखे जाते है । प्राण ऊर्जा के अनुप्रयोगों का क्षेत्र काफी विस्तृत है जो आगामी लेखो में प्रस्तुत किया जायेगा ।

इसलिए दोस्तों अपनी आत्मशक्ति का उपयोग करों और अपनी दौड़ने की क्षमता बढ़ाओ । यदि आपका कोई सवाल है, कुछ पूछना है ! बेशक आप पूछ सकते है । व्यस्त रहने के कारण हो सकता है जवाब देने में देर हो किन्तु जब भी होगा आपको जवाब जरुर मिलेगा । यह सुझाव यदि आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों को शेयर अवश्य करे ।

बिना थके सबसे तेज दौड़ने का तरीका बिना थके सबसे तेज दौड़ने का तरीका Reviewed by Madan Vishvakarma on जनवरी 08, 2018 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.