आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के उपाय और विधि - अध्यात्म सागर

आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के उपाय और विधि

chi energy in hindi

आकर्षण शक्ति जिसे बोलचाल की भाषा में सम्मोहन शक्ति भी कहा जाता है, जो प्रत्येक प्राणी में विद्यमान होती है । किन्तु जिस प्राणी में जिस मात्रा और रूप में विद्यमान होती है, उसी के आधार पर उसकी पहचान होती है । विशेषकर आकर्षण शक्ति मनुष्य के प्राण तत्व पर निर्भर करती है । जिसमें प्राण विद्युत की मात्रा जितनी अधिक होती है वह उतना ही अधिक तेजस्वी, उत्साही, समुन्द्र की तरह शान्त व गंभीर, आशावादी, आत्मविश्वासी और प्रभावी होता है । उसकी इच्छा मात्र से लोग उसका अनुसरण करने लगते है । उसके शब्द इतने प्रभावी होते है जिन्हें सामान्यतया नकारा नहीं जा सकता । उसका संकेत इतना सटीक होता है कि वह बिना बोले ही अपनी बात समझा सकता है । उनके सभी कार्य सफल होते है । इसी आकर्षण शक्ति को ओजस, तेजस, ओरा, नूर, प्राणशक्ति आदि कहते है । हमारे सभी ऋषि – महर्षि और महापुरुष इसी स्तर के रहे है ।

इसके ठीक विपरीत जिनका प्राण तत्व जितना कम होता है वह उतने ही कमजोर और निराशावादी होते है । उनका कोई कार्य सफल नहीं होता तथा जीवन निरंतर अंधकारमय बनता जाता है ।

आकर्षण शक्ति का स्थान

जीवन की सबसे महत्तम चीजे हमेशा शीर्ष पर हुआ करती है । जैसे मनुष्य का दिमाग और सभी ज्ञानेन्द्रियाँ । वैसे प्राणशक्ति सम्पूर्ण शरीर में व्याप्त रहती है, किन्तु उसका मुख्य कार्य स्थल मनुष्य का सिर होता है । सिर के जो शीर्ष स्थल जैसे चेहरे और आंख में इसकी विशेषता पाई जाती है । इसके अतिरिक्त मनुष्य अपनी इच्छा से इसे हाथों और शरीर के किसी भी भाग में संप्रेषित कर सकता है । किन्तु जीवन के अधिकांश कार्य हाथों से होने के कारण हाथों में इसे संप्रेषित करना आसान रहता है ।

आकर्षण शक्ति के प्रयोग और लाभ

आकर्षण शक्ति का होना ही अपने आप में एक लाभ है । फिर भी आकर्षण शक्ति अर्थात सम्मोहन शक्ति से कई प्रकार के लाभ लिए जा सकते है । सम्मोहन शक्ति से किसी विशेष लाभ को पाने के लिए एक विशेष क्रियाविधि होती है, जिसे प्रयोग कहते है । इसका प्रयोग करके आप किसी के भी शरीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य का सुधार करके समाज की महती सेवा कर सकते है ।

आकर्षण शक्ति का प्रयोग करने के लिए प्रयोगकर्ता का अभ्यस्त और प्राणवान होना अति आवश्यक है । सामान्य सी बात है, जिसके पास अतिरिक्त होगा वही तो दूसरों को दे सकेगा । इसलिए इस शक्ति को बढ़ाकर आँखों से त्राटक द्वारा, हाथों से मार्जन द्वारा और मस्तिष्क से शुभ संकल्पों के द्वारा शारीरिक और मानसिक चिकित्सा की जा सकती है । किन्तु यह ध्यान रहे कि पात्र – कुपात्र का भेद किये बिना ऐसे प्रयोग न करे, अन्यथा लाभ के स्थान पर हानि होने की सम्भावना है ।

आकर्षण शक्ति बढ़ाने के नियम

शक्ति को तभी संग्रह किया जा सकता है जब उसके सिद्धांतो का पालन किया जाये । असल में सम्पूर्ण अध्यात्म ही सिद्धांतो पर टिका हुआ है और अध्यात्म क्या सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड ही नियमों से बंधा हुआ है । यदि आप नियम से चलते है तो आपको अवश्य लाभ होगा । यह सिद्धांत ही है जो यह निश्चित करते है कि हम शक्ति के लायक है अथवा नही ।
समय शक्ति के मिलने में नहीं, शक्ति के लायक बनने में लगता है ।
🌱आकर्षण शक्ति के विकास के लिए शरीर का स्वस्थ और क्रियाशील होना अत्यंत आवश्यक है ।
🌱ब्रह्मचर्य का पालन – किसी भी प्रकार की शक्ति साधना के लिए ब्रह्मचर्य का पालन अनिवार्य रूप से आवश्यक है । ब्रह्मचर्य के अभाव में शक्ति की कल्पना करना दिन में तारे ढूंढने के बराबर है, जो कभी नहीं मिलने ।
🌱संकल्प शक्ति – प्राणवान होने पर आकर्षण शक्ति संकल्प शक्ति में परिणत हो जाती है । अर्थात जो आप संकल्प करोगे, आकर्षण शक्ति उसे पूरा करने के लिए प्रयास करेगी ।
🌱ईश्वर में श्रृद्धा और विश्वास, प्रेम और समर्पण
🌱सदाचार और यम – नियमादि योग का अभ्यास
🌱प्रतिदिन साधना और आसन – प्राणायाम, ध्यान – धारणा का अभ्यास

इन सभी नियमों का एक ही मतलब है – योग साधक का जीवन जीना । यदि इन नियमों का पालन किया गया तो आपकी आत्मशक्ति, आकर्षण शक्ति बढ़ेगी । इसके विपरीत पतन का मार्ग है ।

आकर्षण शक्ति बढ़ाने के उपाय और विधियाँ

नियमों का विवरण देने के पश्चात अब आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के उपायों की चर्चा करते है । आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के कई उपाय है जिनकी अलग – अलग विधियाँ है । सभी विधियों पर एक साथ प्रयोग करना ठीक नहीं, इसलिए अपनी सुविधानुसार कोई एक विधि का चयन करके अभ्यास करें ।

यह लेख अभी अधुरा है ! जल्द ही पूरा किया जायेगा ।
आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के उपाय और विधि  आकर्षण शक्ति को बढ़ाने के उपाय और विधि Reviewed by Adhyatma Sagar on जुलाई 13, 2017 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.