दर्शन और देखने में अंतर - अध्यात्म सागर

दर्शन और देखने में अंतर

Philosophy in hindi

दर्शन का क्या है ?

एक दिन मेरे एक मित्र ने मुझसे कहा – “ चल मंदिर चलते है ?”

मैंने कहा  – “ किसलिए ?”

मित्र बोला  – “ दर्शन के लिए !”

मैं बोला – “ क्यों ! कल ठीक से दर्शन नहीं किया था क्या ?”

मित्र – “ तू भी क्या इन्सान है ! दिनभर भर एक जगह बैठा रहता है ! पर थोड़ी देर भगवान के दर्शन करने के लिए नहीं जा सकता !”

मैंने कहा – “ महाशय ! चलने में मुझे कोई समस्या नहीं है । किन्तु आप यह मत कहिये कि दर्शन करने चलेगा क्या ?, यह कहिये कि देखने चलेगा क्या ?

मित्र बोला – “ किन्तु दोनों का मतलब तो एक ही होता है !”

मैं – नहीं ! दोनों में जमीन आसमान का अंतर है !

मित्र – “कैसे ?”

कैसे ? यही प्रश्न मैं आपसे भी पूछना चाहता हूँ । अक्सर मैंने देखा है लोग तीर्थ यात्रा पर जाते है किसलिए ?, भव्य मंदिर और मूर्तियों को देखने के लिए, ना कि दर्शन के लिए !

अब आप सोच रहे होंगे की देखने और दर्शन करने में क्या अंतर है ?

देखने का मतलब है, सामान्य देखना जो हम दिनभर कुछ ना कुछ देखते रहते है । किन्तु दर्शन का अर्थ होता है – जो हम देख रहे है उसके पीछे छुपे तत्थ्य और सत्य को जानना । देखने से मनोरंजन हो सकता है, परिवर्तन नहीं । किन्तु दर्शन से मनोरंजन हो ना हो, परिवर्तन अवश्यम्भावी है ।

अधिकांश लोग मंदिरों में केवल देखने तक ही सीमित रहते है, दर्शन को नहीं समझ पाते । फलतः उन्हें वह लाभ नहीं मिल पाता जिसका महात्म्य ग्रंथो में मिलता है । हमारे शास्त्रों में तीर्थयात्रा के बहुत से लाभ बताये गये है किन्तु लोग तीर्थ यात्रा का मतलब केवल जगह – जगह भ्रमण करना और मंदिर और मूर्तियों को देखना ही समझते है । यह मनोरंजन है दर्शन नहीं ।

दर्शन क्या है ? दर्शन वह है जो आपके जीवन को बदलने की प्रेरणा दे । दर्शन वह है जो आपके जीवन का कायाकल्प कर दे । दर्शन है जो आपके जीवन में आमूल – चुल परिवर्तन कर दे । अंगरेजी में दर्शन का मतलब होता है – फिलोसोफी, जिसका अर्थ होता है –यथार्थ की परख का दृष्टिकोण ।

इसी के लिए हमारे वैदिक साहित्य में षड्दर्शन की रचना की गई । जिनमे जीवन के सभी आवश्यक और यथार्थ तत्वों की व्याख्या की गई है ।

यदि आप अब भी सोच रहे है कि दर्शन क्या है ? तो फिर जीवन के व्यावहारिक दृष्टान्तों से समझने की कोशिश करते है । रामकृष्ण परमहंस की दक्षिणेश्वर की काली को उनसे पहले और उनके बाद हजारों लोगों ने देखा किन्तु किसी को दर्शन नहीं हुआ । क्यों ? क्योंकि रामकृष्ण परमहंस ने ना केवल काली की मूर्ति को देखा बल्कि उसके दर्शन को समझा इसलिए काली ने रामकृष्ण परमहंस को दर्शन दिया ।

भगवान श्री राम के मंदिर जाकर उनकी मूर्ति के दर्शन करने का मतलब है उनके जीवन चरित को समझा जाये और उसी के अनुसार अपने जीवन में परिवर्तन किया जाये । यही राम का दर्शन है । यदि आप राम की मूर्ति तो देखते है किन्तु अपने जीवन में कोई परिवर्तन नहीं करते है तो फिर आपको राम के दर्शन का कोई लाभ नहीं मिलने वाला ।

यदि आप शिवजी का दर्शन करने जाते है और आपके मन में क्रोध, ईर्ष्या, द्वेष ही भरा है तो फिर दर्शन का क्या लाभ ?

यदि आप हनुमानजी का दर्शन करने जाते है और आपका मन पवित्र नहीं है, स्त्रियों पर आपकी गलत दृष्टि है तो फिर हनुमानजी का दर्शन करना बेकार है ।

भक्त वही सच्चा, जो है अभी बच्चा । जो बड़ा हो गया वो भक्त नहीं हो सकता और जो भक्त हो गया उसमें बड़प्पन नहीं हो सकता ।
आपके दर्शन का क्या अर्थ है ? अपने विचार हमारे साथ शेयर करें । यदि यह लेख आपको उपयोगी लगे तो अपने मित्रों को Facebook, Twitter, Google+ पर शेयर करे । 
दर्शन और देखने में अंतर दर्शन और देखने में अंतर Reviewed by Adhyatma Sagar on जून 24, 2017 Rating: 5

2 टिप्‍पणियां:

  1. अपनी टिप्पणी लिखें...दर्शन तो मंदिर जाये बिना भी हो जाते हैं ---

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमस्कार सत्याचरण चित्रांश जी !
      आपने सही कहा - दर्शन तो मंदिर जाये बिना भी हो जाते है !

      हटाएं

Blogger द्वारा संचालित.